कम उम्र में इश्मीत बना चमकता सितारा, पूल में डेड बॉडी के साथ माथे पर मिला था ऐसा निशान, आज भी लोग नहीं भूल पाये

1
57

10 साल गुजर गये हैं लेकिन इश्मीत सिंह की यादें आज भी लोगों के दिलों में राज कर रही हैं. आज मैं ऊपर, आसमां नीचे… गाना गाने वाले इश्मित इतनी जल्दी आसमां के पास चले जायेंगे इसका किसी को अंदाजा भी नहीं था. इश्मीत सिर्फ 19 की उम्र में एक अच्छा सिंगर ही नहीं बन गया था बल्कि वो पढ़ाई-लिखाई और दोस्तों में एक था. क्लास में इश्मीत के नेचर से हर कोई खुश था. कहते हैं ना कि अच्छे लोगों की जरूरत ऊपर भी होती है, ठीक ऐसा ही इश्मीत के साथ भी हुआ. एक ऑडिशन के लिए इश्मीत मालदीव गया था और फिर वहां से कभी वापस नहीं आया.

इश्मीत की मौत की खबर सुनकर लता मंगेश्वर से लेकर आशा भोसले, अभिजीत भट्टाचार्य और अलका यागनिक समते कई दिग्गजों ने गहरा दुख व्यक्ति किया था. इश्मीत स्नातक की डिग्री लेने के बाद वो मुंबई में एम.एन.सी कॉलेज से पढ़ाई कर रहे थे. वो सीए लेवल की पढ़ाई करना चाहते थे लेकिन इस बीच उनका ध्यान सिंगिंग की तरफ जाने लगा, क्योंकि उन्हें गायकी की शिक्षा अपने परिवार से मिली थी और वो गानों के लिए ऑडिशन देते रहते थे, और 17 साल की उम्र में वो गायक में हिस्सा ले चुके थे.

छोटे-मोटे हर ऑडिशन में इश्मीत को जीत मिलना तय थी. उनकी लगन देखकर बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता राज बब्बर ने उसे पंजाब के सबसे महान शहंशाह महाराजा रणजीत सिंह की किशोर अवस्था का रोल ऑफर किया था. साल के अंत में शुरू होने वाले सीरियल की शूटिंग उसने विदेश दौरे से लौट कर शुरू करनी थी. इश्मीत को बॉलीवुड के दिग्गज संगीतकार उत्तम सिंह ने भी गाने का प्रस्ताव दिया था.

इश्मीत के लिए ऑफर्स की लाइन लग चुकी थी. वॉयस ऑफ इंडिया बनने से पहले ही इश्मीत काफी लोकप्रिय हो गया था। कंपनियां भी उसे अपना ब्रांड एम्बेसडर बनाने के लिए रुचि दिखा रही थीं. फाइनल से पहली ही सोनाटा कंपनी ने अपनी युवा घडिय़ों की रेंज उसी से लांच करवाई थी. कीर्ति लाल ज्यूलर ने उसे हीरों से नवाजा था, तो पंजाब स्टेट लॉजरीज ने भी उसे अपनी लॉटरीज का ब्रांड एम्बेसडर बनाया था. वॉयस ऑफ इंडिया बनने के बाद जब उसे 50 देशों में शो करने का कार्यक्रम दिया गया तो वह काफी उत्साहित था, लेकिन शायद ये दिन देखना ईश्वर को मंजूर ना था.

एक तरफ वो 50 देशों में शो करने वाला था वहीं दूसरी तरफ उसके दोस्त और परिवार उसका 20वां बर्थडे धूम-धाम से मनाने की सोच रहे थे लेकिन उससे पहले इश्मीत एक परफॉर्मेंस के सिलसिले में मालदीव गए थे. यहां उनके प्रोग्राम से दो दिन पहले स्विमिंग पूल में उनकी लाश मिली थी. सवाल उठने लगे कि आखिर इश्मीत की मौत कैसे हुई. हालांकि पुलिस का कहना था कि इश्मीत पूल में नहाने के लिए उतरे थे. जहां उनके सिर पर चोट लगी और वो डूब गए. इश्मीत को स्विमिंग नहीं आती थी, बाद में हॉस्पिटल ने बताया था कि इश्मीत के माथे पर कट का निशान था.