उत्तराखंड- आयुष्मान योजना से खिलवाड़ करते पकड़े गये ये 13 नामी अस्पताल, मरीजों से कर रहे थे मोटी कमाई

1
21

जिन डॉक्टरों को कभी को भगवान कहा जाता था, आज वहीं डॉक्टर पैसा कमाने में अंधे हो चुके हैं. मरीजों की जान के दुश्मन बनते जा रहे हैं. हालात ऐसे हैं कि डॉक्टरों को अंधाधुंध कमाई के मामले में सरकार का भी डर नहीं रहा और सरकार द्वारा बनाई गई आयुष्मान योजना से भी खिलवाड़ कर डाला. जी हां…उत्तराखंड सरकार द्वारा बनाई गई आयुष्मान योजना में एक साल के भीतर ही प्रदेश के 13 निजी अस्पतालों में फर्जीवाड़ा पकड़ा गया. जिसमें अस्पतालों ने कार्ड धारक मरीजों से इलाज का पैसा वसूलने के लिए सरकार से भी क्लेम किया.

देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर जिले के 13 निजी अस्पतालों में फर्जीवाड़ा पकड़ा गया. बताया जा रहा है निशुल्क इलाज के बिल पर कई अस्पतालों ने पैनाल्टी लगाकर मोटी कमाई की. इतना ही नहीं कई सरकारी अस्पतालों ने कई मरीजों को निजी अस्पतालों में भर्ती किया और दूसरे अस्पतालों में जाकर मरीजों से मोटी कमाई के लिए इलाज किया. जसपुर मेट्रो हॉस्पिटल में आयुष्मान कार्ड धारक 15 मरीजो से निशुल्क इलाज का क्लेम लेकर 1.41 लाख रुपये वसूला, जबकि आयुष्मान योजना में कार्ड धारक मरीज को पांच लाख रुपये का कैशलेस इलाज की सुविधा है.

 

आयुष्मान योजना में सूचीबद्ध अस्पतालों से प्रतिदिन 200 से 250 क्लेम भुगतान के मामले आ रहे हैं. क्लेम के बिल प्राप्त होेते ही उसी दिन ऑडिट किया जाएगा.  जिससे बिलों में गड़बड़ी तत्काल पकड़ में आ जाए. जिन अस्पतालों के क्लेम सही है.उनका भुगतान सात दिन के भीतर किया जाएगा. गलत ढंग से भेजे गए क्लेम को जांच के बाद निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी.

आस्था हॉस्पिटल काशीपुर, प्रिया हॉस्पिटल हरिद्वार, जन सेवा काशीपुर, कृष्ण हॉस्पिटल रुद्रपुर, अली नर्सिंग हॉस्पिटल काशीपुर, जीवन ज्योति हॉस्पिटल हरिद्वार, विनोद आर्थो हॉस्पिटल देहरादून, देवकी नंदन काशीपुर, बृजेश हॉस्पिटल रामनगर, एमपी मेमोरियल काशीपुर, जसपुर मेट्रो हॉस्पिटल, सोहता सुपर हॉस्पिटल जसपुर, आरोग्यम मेडिकल काॅलेज एंड हॉस्पिटल रुड़की जैसे 13 अस्पतालों की जांच के बाद कार्रवाई हो सकती है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY