30 साल पहले इस गांव के सभी लोग धीरे-धीरे गायब होते चले गये, जब एक ही बचा शख्स तो सच आया सामने

3
61
दरअसल हम रुस के सीमा पर मौजूद डोबरुसा गांव में रहने वाले अकेले शख्स मुनटेन की बात कर रहे हैं. तीस साल पहले इस गांव में मुनटेन की तरह 200 परिवार रहते थे लेकिन सोवियत संघ के टूटने से गांव में हड़कंप मच गया और लोग चोरी-छिपकर आस-पास भागकर बसने लगे. हर रोज लोगों के जाने से गांव खाली होता चला गया. कई लोगों की मौत भी होती चली गई और मुनटुन लोगों के इंताजर में बैठे रहे कि फिर से गांव में लोग आयेंगे लेकिन लोग वापस नहीं आये. पूरा गांव खाली हो गया लेकिन तीन लोगों ने गांव नहीं खाली किया.
इन तीन लोगों में मुनटेन की तरह एक बुजुर्ग दंपत्ति और भी थे, लेकिन कुछ वक्त बाद उनकी भी मौत हो गई जिसके बाद मुनटेन अकेले रह गये. मुनटेन का कहना है कि अकेलापन बहुत परेशान करता है इसलिए उन्होंने अपने घर में करीब 10,12 जानवर पाल रखे हैं. दिनभर खेती करने के बाद जानवरों के साथ बातचीत और खेलते हैं. मुनटेन के घर में करीब 5 कुत्ते हैं, खरगोश, पक्षी मौजूद हैं, जिनसे मुनटेन बातें करते हैं.

3 COMMENTS

  1. I simply want to mention I am all new to blogging and site-building and actually loved this blog. Probably I’m want to bookmark your blog post . You surely have really good article content. Thanks for sharing your blog.

LEAVE A REPLY