फॉरेस्ट गार्ड पर दांत गड़ाये बैठा था बाघ, पहले हमले में बच गया तो दोबारा वनकर्मियों के सामने ऐसा किया बुरा हाल कि…

1
44

उत्तराखंड में पहले ही सड़क हादसे कम होने के नाम नहीं ले रहे हैं, दूसरा आदमखोर जानवरों ने लोगों का जीना दुश्वार कर रखा है. आये दिन खाई में गिरने से लोगों की मौते हो रही हैं तो वहीं दूसरी तरफ आदमखोर जानवर भी इंसानों को अपना निबाला बनाते जा रहे हैं. हैरानी तो तब हुई जब उन्हीं की रक्षा में लगे गार्ड तक को बाघ ने अपना निबाला बना लिया. इससे भी ज्यादा हैरानी आपको इस गार्ड की बेरहमी से हुई मौत के बारे में जानकर होगी.

कालागढ़ टाइगर रिजर्व वन प्रभाग (केटीआर) के प्लेन रेंज में फॉरेस्ट गार्ड राजेश नेगी अपने दो साथियों के साथ करीब शाम को 5 बजे जंगल में गश्त कर रहा था, तभी बाघ की नजर पड़ी और राजेश पर हमला बोल दिया. आनन-फानन में दोनों साथियों ने हवाई फायरिंग की जिसके बाद बाघ तो भाग गया लेकिन युवक पर दांत गढ़ाये बैठा था इसका अंदाजा साथियों को भी नहीं था.

बाघ के हमले से राजेश घायल हो जाते हैं. जिसके बाद उनके साथी उन्हें कंघे पर लादकर कई किलोमीटर तक पैदल लाते हैं और वहां वो बाकी वनकर्मियों को सूचना देते हैं. जिसके बाद साथी उन्हें वहां ले जाकर लिटा देते हैं डॉक्टर तक पहुंचाने का इंतजाम करते हैं. जितनी देर में साथी उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी करते हैं उतनी देर में बाघ फिर से आ जाता है और घायल युवक को खींच ले जाता है. वनकर्मियों की आंखों के सामने बाघ उसे जंगल की तरफ खींच ले जाता है लेकन वनकर्मी काफी कोशिशों के बाद भी गार्ड को नहीं बचा पाते हैं.

कुछ देर बाद युवक का बेहद आपत्तिजनक में जंगल के कोने में शव मिलता है, जिसे देखकर वनकर्मियों के पैरों तले जमीन खिसक जाती है. बाघ के हमले से युवक का शव ऐसा हो गया था कि उसके परिवार वालों का देखना भी मुश्किल हो गया.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY