अस्पताल के बाहर गुस्से में बैठी थी बंदरिया, जब लोगों ने उसके हाथों में दर्दनाक चीज देखी तो हर किसी आंखें भर आईं

1
39

दुनिया में मां और उसके बच्चे का रिश्ता सबसे खास होता है, जिसकी तुलना किसी भी रिश्तें से नहीं की जा सकती है. फिर चाहे वो जानवर का बच्चा ही क्यों ना हो. अभी तक आपने सिर्फ इंसानों की मां को अपने बच्चे के लिए तड़पते देखा होगा, जब उनके बच्चे के जरा-सी चोट भी लगती है उनका कलेजा कांप उठता है. आज हम आपको जानवर की मां के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसने साबित कर दिया कि जानवरों का भी दिल होता है.

कई लोगों का मानना है कि बंदरों के सीने में दिल नहीं होता है लेकिन अगर आप भी ऐसा ही मानते हैं तो आज इस दर्दनाक घटना के बारे में जानकर आप खुद तय करेंगे कि दिल होता है या नहीं? दरअसल मध्य प्रदेश के सीहोर में एक बंदरिया को पशु अस्पताल के बाहर देखा जा रहा था. बंदरिया काफी गुस्से में थी इसलिए उसके पास जाने की किसी ने हिम्मत नहीं की. बंदरिया गुस्से में क्यों थी वो तब पता चला जब लोगों ने बंदरिया के हाथ में कुछ देखा.

बंदरिया के हाथ में जानवर का शव देखकर पहले तो लोगों को समझ नहीं आ रहा था जब पता चला तो हर कोई भावुक हो गया. दरअसल ये शव उसके ही बच्चे का था, जो उसे खींचकर पशु अस्पताल के बाहर लाई थी. पुरानी जेल के बाहर लगे 11 केबी के तारो में झुलसकर बंदरिया का बच्चा जमीन पर गिरा और फौरन ही मर गया. उसकी मां ने अस्पताल पहुंचाया लेकिन डर के मारे कोई पास नहीं आ रहा था.

लोगों के शोर के मारे बंदरिया भागी तो डॉक्टर ने उसकी जांच की, लेकिन तब तक बंदरिया का बच्चा मर चुका था. कुछ देर बाद फिर से बंदरिया वापस लौटती है और उसी जगह पर मायूस बैठ जाती है. फिलहाल बंदरिया के बच्चे का शव डॉक्टर्स ने अपने ही कब्जे में ले लिया. घटना जानने के बाद हर किसी के आंखों में आंसू आ गये.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY