पहले महिला की डिलीवरी करवाई उसके बाद उसकी नवजात बच्ची की डिलीवरी कर डॉक्टरो के उड़े होश

1
42

सही सुन रहे हैं कि एक महिला ने प्रेग्नेंट बच्ची को जन्म दिया. उसके बाद उस बच्ची की भी सिजेरियन सर्जरी की गई. नवजात बच्ची के पेट में कोई ऐसी वैसी चीज नहीं थी बल्कि एक भ्रूण मौजूद था. महिला ने जब प्रेग्नेंट बच्ची को जन्म दिया तो डॉक्टरों के होश उड़ गये लेकिन उससे पहले ही डॉक्टरो ने नवजात बच्ची को बचाने की पूरी तैयारी कर ली थी. डॉक्टरो ने महिला डिलीवरी से पहले ही इस बात का फैसला कर लिया था कि उनके गर्भ में पल रहे एक और भ्रूण को कैसे बाहर निकाला जायेगा.

ये मामला कोलंबिया का है. लैटिनस नाम के एक अस्पताल में कुछ दिन पहले ही महिला ऑल्ट्रासाउंड के लिए आई थी. जांच के दौरान डॉक्टरों ने कुछ गड़बड़ होने की बात बताई थी. डॉक्टरो ने बताया था कि उसके शरीर में दो गर्भनाल (Umbilical Cords) हैं. लेकिन दोनों में से एक कॉर्ड गर्भ में पल रही बच्ची के पेट में मौजूद है. जिससे बच्ची के पेट में भ्रूण पहुंच गया था. इससे पहले बच्ची के पेट के अंदर मौजूद भ्रूण का विकास होता तब तक डॉक्टरों ने समय रहते महिला की डिलीवरी की उसके बाद 24 घंटे के अंदर बच्ची की सिजेरियन सर्जरी करके खराब भ्रूण को बाहर निकाला.

डॉक्टरों के मुताबिक इत्ज़मारा अब ठीक है और उसका शरीर पूरी तरह से स्वस्थ्य है. भविष्य में इस सर्जरी की वजह से उसे कोई दिक्कत नही आएगी. ‘यह एक तरह का पैरासिटिक ट्विन्स (Parasitic Twins) का मामला है. इस तरह के केस को ‘फीटस इन फेटु’ (Fetus in Fetu) भी कहा जाता है.

डॉक्टरों ने बताया था कि ये तो पता था कि महिला के पेट में दो गर्भनाल हैं जिससे वो दो जुड़वा बच्चों को जन्म देती लेकिन ये नहीं अंदाजा था कि एक बच्ची अपने दूसरे भाई या बहन का भ्रूण निगल लेगी. मां के पेट में पल रहे बच्चे ने दूसरे भ्रूण को निगल लिया जो उस बच्ची के पेट में पलने लगा था. समय रहते ही डॉक्टरों ने इसका इलाज किया और भ्रूण का विकास होने से पहले ही उसे बाहर निकाल लिया.

कोई भी महिला इस कंडीशन की शिकार तब होती हैं जब एक जुड़वा बच्चे का विकास गर्भावस्था के दौरान रुक जाता है. हालांकि वह पूरी तरह विकसित होने वाले बच्चे से जुड़ा रहता है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY