हरिद्वार गंगा में 2 साल के भाई को फेंकने के लिए बहनों ने बनाया खतरनाक प्लान, भाई को मिलता था ज्यादा लाड़-प्यार

2870
10422
बेटियों के लिए पहले से ही देश पराया था, शायद इसलिए महिला अपराधियों को कड़ी सजा नहीं दी जाती है बल्कि कुछ ही समय बाद आरोपियों को छोड़ दिया जाता है. वहीं अब लड़को की जिंदगी का भी कोई मोल नहीं रह गया है, इसलिए उन्हें जानबूझकर मारा जा रहा है. यूं कहे कि लोगों की आंखों से इंसानियत मरती जा रही है. अपने ही सपूतों का गला घोटते उनके कान भी नहीं कांपते हैं. तीर्थस्थल कहे जाने वाले हरिद्वार में एक मां गंगा स्नान अपनी बेटी लंबी उम्र के लिए नहीं बल्कि उसे मारने ले गई थी.
6 महीने के बच्चे की परवरिश से तंग आकर मां ने मासूम को गंगा में नहालाने के बहाने मारने का प्लान बनाया. वहीं दूसरी तरफ एक बहन 2 साल के भाई के लिए खूनी बन गई. सरला सदन (सर्वप्रिय विहार) निवासी हीरो मोटो कोर्प में कार्यरत दीपक बलूनी का छह माह का बेटा अंश तीन नवंबर की शाम को घर से गायब हो गया था.
पहले मामले में बताया जा रहा है कि महिला 6 महीने के बच्चे के बार-बार रोने और स्तनपान कराने से दुखी हो चुकी थी. सड़क पर लगे कैमरे में दिखाया गया महिला काले में कुछ ले जा रही है. महिला गंगा स्नान का बहाना करके बैग सहित गंगा में डाल आई. वहीं दूसरी तरफ एक घर बड़ी बहने को बाद पैदा हुए बेटे को ज्यादा लाड़-प्यार मिलने लगा. जिसके बाद दोनों बहनों की आंखों में खून उतर आया.
12 और 13 साल की दोनों बहनों ने सुबह-सुबह 2 साल के भाई को एक बैग में बंद किया और गंगा में डाल आईं. कुछ देर बाद एक व्यक्ति ने बैग में शव टंगा देखा. व्यक्ति ने फोटो क्लिक कर तो पुलिस को खबर की. पुलिस जब तक पहुंची तब तक शव बहे चुका था. वहीं गंगा में काफी देर तक चले सर्च ऑपरेशन से जब कोई सुराग हाथ नहीं लगा तो पुलिस उस व्यक्ति के घर के बाहर लगे कैमरे दिखवाए जिसने अपने बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी. पुलिस ने कैमरे में देखा दो बहने काला बैग ले रही है. ये बैग वही था जो व्यक्ति ने फोटो क्लिक करके पुलिस को भेजा था.

2870 COMMENTS