देहरादून- बच्चों ने स्कूल की सुनाई कहानी, बोले-ठंड में दी जाती है ऐसी सजा

8
155

दिसंबर महीने के शुरूआती दिनों में ही ठंड से लोगों का बुरा हाल है. इस बार कड़कड़ाती ठंड ने ना केवल लोगों को कांपने पर मजबूर किया है बल्कि जरूरी काम करने पर भी मजबूर हैं. वहीं पहाड़ी राज्यों में बर्फबारी से लोगों का हाल बेहाल है. ठंडी हवाएं और कोहरे को देखते कई राज्यों में स्कूलों की छुट्टी कर दी गई है लेकिन उत्तराखंड में बर्फबारी और कोहरे के बावजूद स्कूल बंद करना तो छोड़ो स्कूल में बच्चे और ज्यादा कांपने को मजबूर हैं.

देहरादून के कई स्कूलों के ऐसे हालात हैं कि उन्हें देखकर आप यहीं कहेंगे कि बच्चों को स्कूल ना भेजा जाये. जी हां…स्कूलों में ना फर्नीचर ही नहीं है, बच्चे फर्श पर चटाई पर बैठकर शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. इतना ही नहीं कई स्कूलों में खिड़की और दरवाजों ही नहीं हैं, जहां से सीधी हवाएं क्लासरूम तक आ रही हैं.

इन ठंडी हवाओं में 5,6 घंटे गुजारने वाले छात्र-छात्राओं का कहना है कि ठंड की वजह से उनके हाथ तक नहीं चलते हैं लेकिन फिर भी स्कूल आना पड़ रहा है. वहीं अफसरों को हीटर के सामने बैठा देखा गया. डीएम ऑफिस में भी ठंड से बचाओ के लिए जनता के लिए कोई व्यवस्था नहीं है.

8 COMMENTS

LEAVE A REPLY