उत्तराखंड- इस परिवार में टॉपर्स की भरमार, माता-पिता और बहन के बाद बेटे ने भी किया टॉप, यूपीएससी परीक्षा में हासिल की 306 रैंक

1
50

कहते हैं ना कि देने वाला जब भी देता है छप्पड़ फाड़कर देता है. भगवान का ऐसा वरदान हरिद्वार में कनखल के एक परिवार में है. जहां टॉपर्स की भरमार है. एक एग्जाम पास करने के लिए कई स्टूडेंट्स कई साल लगा देते हैं लेकिन श्याम विहार कॉलोनी के उत्कर्ष तोमर ने यूपीएससी की परीक्षा पहली ही साल में पासकर 306 रैंक हासिल कर लिये हैं. उत्कर्ष शुरु से ही टॉपर आते रहे हैं और इस जंग में भी उन्होंने विजय पा ली. हैरानी की बात तो ये है कि उत्कर्ष अपने घर में सिर्फ अकेले ही टॉपर नहीं है बल्कि

 

उत्कर्ष का गंगा के तट से निकलकर सिविल परीक्षा पास करना कई स्टूडेंट्स के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है. उत्कर्ष तोमर ने रानीपुर स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में 12वीं में टॉपर रहे. उसके बाद उत्कर्ष ने आईआईटी खड़कपुर के लिए चयन हुआ, लेकिन मैकेनिकल इंजीनियरिंग न होने की वजह से एनआईटी कुरुक्षेत्र से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया और यहां भी टॉप किया.

 

कॉलेज में पढ़ाई करते हुए उत्कर्ष यूएसए की कंपनी में प्लेसमेंट हुआ और पोस्टिंग बंगलूरू में मिली, लेकिन उत्कर्ष के सपने तो इससे भी ऊपर थे और उन्होंने ये नौकरी छोड़ दी. उसके बाद उन्होंने गेट की परीक्षा दी उसमें उत्कर्ष की ऑल इंडिया में 70 वीं रैंक आई. इसमें भी उत्कर्ष ने दो महीने नौकरी करके छोड़ दी और यूपीएससी की तैयारी की. वर्ष 2017 में आईईएस में 19वीं रैंक हासिल की. आईईएस (इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस) की नौकरी करते हुए ही दो माह पूर्व फरवरी माह में 14वी रैंक से आईएफएस की परीक्षा उत्तीर्ण की। 306वीं रैंक हासिल कर सिविल की परीक्षा उत्तीर्ण की.

 

वहीं उत्कर्ष के परिवार की बात करें तो उनके पिता तेजवीर सिंह तोमर कक्षा दस और 12 में टॉपर रहे हैं. एमकॉम में नौवां स्थान हासिल किया. पांच साल एलआईसी में काम करने के बाद पीसीएस की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद सेल्स टैक्स अफसर बनने का मौका मिला. उसके बाद यूपी हायर सर्विस कमिश्न से हरिद्वार आए और तभी तक एसएमजेएन पीजी कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं.

 

उत्कर्ष की माता शशि प्रभा भी बचपन से होनहार रही हैं बीए, एमए करने के बाद राजनीतिक विज्ञान से एमफिल की और गोल्ड मेडल जीता. पीएचडी की और वर्तमान में महिला महाविद्यालय में प्राचार्य हैं. उत्कर्ष की बहन अदिति तोमर भी बचपन से होशियार रही हैं. 12वीं में टॉपर आने के बाद अदिती ने सिस्को कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर वर्तमान में कार्यरत हैं और यूपीएससी की तैयारी कर रही हैं.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY