75 साल बाद मिले लापता प्लेन के अंदर झांककर देखा तो लोगों के होश उड़ गये, जिंदा थीं कई…

0
110
3 जून को भारतीय वायुसेना के विमान AN-32 ने असम के एयरबेस से उड़ान भरी थी. विमान में करीब 13 लोग मौजूद थे, हफ्तेभर से लगातार वायुसेेना, नौसेना, सेना, खुफिया एजेंसियां, आईटीबीपी और पुलिस के जवानों द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाये जाने के बाद ईस्ट अरुणाचल प्रदेश की पहाड़ियों पर विमान का मलबा देखा गया. ऐसे में मलबे वाली जगह पर कमांडोज को हेलिकॉप्टर से उतारा जाएगा और ग्राउंड पार्टी को वहां तक पहुंचने में 1-2 दिन लग सकते हैं. ये वहीं जगह है जहां पहले भी कई विमानों के मलबे देखे जा चुके हैं. एक विमान तो 75 साल बाद इसी पहाड़ी पर देखा गया था. हैरानी की बात तो ये है कि इस विमान के अँदर कुछ ऐसा दिखा जिसे देखकर जवानों के होश ही उड़ गये.
बताया जा रहा है कि अरुणाचल प्रदेश के रोइंग जिले में 75 साल के लापता एक प्लेन का  मलबा मिला था. ये प्लेन अमेरिकी वायुसेना का विमान था. ये प्लेन दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान चीन से जापानियों के खिलाफ लड़ाई में मदद करने के लिए असम के दिनजान एयरफील्ड से उड़ा था और रास्ते में क्रेश हो गया था. जिस जगह पर ये प्लेेन गिरा था वहां काफी घने जंगल और पहाड़ियां ऐसे में वहां पर जवानों का ढूंढना मुश्किल था. अभी भी उस जगह पर प्लेन के मलबे को ढूंढने में सालों लग जाते हैं.
इस प्लेन के मलबे के अंदर झांककर देखा गया तो उसमें कई चीजें 75 साल तक जिंदा थीं. विमान के मलबे के अंदर बड़ी संख्या में गोलियां, एक चम्मच, कैमरों के लैंस के अलावा ऊनी दस्ताना भी मिला.
वहीं एक रिसर्च में पता चला है कि ज्यादातर प्लेन इसी एरिया में गिरने के पीछे आसमान में बहुत ज्यादा टर्बुलेंस हैं. इस एरिया के आसमान में ज्यादा टर्बुलेंस और 100 मील प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा यहां की घाटियों से यहां प्लेन का उड़ना बहुत ज्यादा मुश्किल हो जाता है.

LEAVE A REPLY